Skip to main content

सेना दिवस: 15 जनवरी 1949, ये तारीख़ भारतीय सेना के लिए क्यों है अहम

 

सेना दिवस: 15 जनवरी 1949, ये तारीख़ भारतीय सेना के लिए क्यों है अहम

भारत में हर साल15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है. इस साल भारत अपना 75वां सेना दिवस मना रहा है. भारत में इस दिन जश्न मनाने की खास वजह है. ये दिन भारत के इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक की याद दिलाता है.


15 जनवरी, 1949 को करीब 200 साल के ब्रिटिश शासन के बाद पहली बार किसी भारतीय को भारतीय सेना की बागडोर सौंपी गई थी. इस दिन भारतीय सैनिकों की उपलब्धियों, देश सेवा, अप्रतिम योगदान और त्याग को सम्मानित किया जाता है.


सेना दिवस मनाने की वजह

15 जनवरी, 1949 को कमांडर-इन-चीफ़ का पद पहली बार ब्रिटिश सैन्य अधिकारी से भारतीय सैन्य अधिकारी को मिला था. कमांडर-इन-चीफ़ तीन सेनाओं के प्रमुख को कहा जाता है इस समय भारत में कमांडर-इन-चीफ़ भारत के राष्ट्रपति हैं जो तीनों सेनाओं के प्रमुख हैं.


तब फील्ड मार्शल केएम करियप्पा ने जनरल सर फ्रांसिस बुचर से भारतीय सेना के पहले भारतीय कमांडर-इन-चीफ़ के तौर पर पदभार ग्रहण किया था. फ्रांसिस बुचर भारतीय सेना में कमांडर-इन-चीफ़ का पद धारण करने वाले अंतिम ब्रिटिश व्यक्ति थे. फील्ड मार्शल केएम करियप्पा उस समय लेफ्टिनेंट जनरल थे.


उस समय करियप्पा की उम्र थी 49 साल. केएम करियप्पा ने 'जय हिंद' का नारा अपनाया जिसका मतलब है 'भारत की जीत'.भारतीय सेना का गठन ईस्ट इंडिया कंपनी की सेनाओं से हुआ जो बाद में 'ब्रिटिश भारतीय सेना' और स्वतंत्रता के बाद, भारतीय सेना बन गई. भारतीय सेना को विश्व की चौथी सबसे मज़बूत सेना माना जाता है.


फ़ील्ड मार्शल केएम करियप्पा

भारतीय सेना में फील्ड मार्शल की पांच सितारा रैंक वाले दो ही अधिकारी रहे हैं. पहले हैं केएम करियप्पा और दूसरे अधिकारी फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ हैं. उनको 'किपर' के नाम से भी पुकारा जाता है. कहा जाता है कि जब करियप्पा फ़तेहगढ़ में तैनात थे तो एक ब्रिटिश अफ़सर की पत्नी को उनका नाम लेने में बहुत दिक्कत होती थी. इसलिए उन्होंने उन्हें 'किपर' पुकारना शुरू कर दिया.


केएम करियप्पा का जन्म 28 जनवरी, 1900 को कर्नाटक में हुआ था. पहले विश्वयुद्ध (1914-1918) के दौरान उन्हें सैन्य प्रशिक्षण मिला था. 1942 में करियप्पा लेफ़्टिनेंट कर्नल का पद पाने वाले पहले भारतीय अफ़सर बने. 1944 में उन्हें ब्रिगेडियर बनाया गया और बन्नू फ़्रंटियर ब्रिगेड के कमांडर के तौर पर तैनात किया गया.


15 जनवरी 1986 को उन्हें फ़ील्ड मार्शल बनाने की घोषणा की गई. तब उनकी उम्र 86 साल के करीब थी. फ़ील्ड मार्शल करियप्पा ने 1947 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में पश्चिमी कमान संभाली थी. लेह को भारत का हिस्सा बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही. नवंबर 1947 में करियप्पा को सेना की पूर्वी कमान का प्रमुख बना कर रांची में तैनात किया गया था.


लेकिन दो महीने के अंदर जैसे ही कश्मीर में हालत ख़राब हुई, उन्हें लेफ़्टिनेंट जनरल डडली रसेल के स्थान पर दिल्ली और पूर्वी पंजाब का जीओसी इन चीफ़ बनाया गया. उन्होंने ही इस कमान का नाम पश्चिमी कमान रखा. उन्होंने तुरंत कलवंत सिंह के स्थान पर जनरल थिमैया को जम्मू-कश्मीर फ़ोर्स का प्रमुख नियुक्त किया.


लेह जाने वाली सड़क तब तक नहीं खोली जा सकती थीं, जब तक भारतीय सेना का जोज़ीला, ड्रास और कारगिल पर कब्ज़ा नहीं हो जाता. ऊपर के आदेशों की अवहेलना करते हुए करियप्पा ने वही किया. अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया होता तो लेह भारत का हिस्सा नहीं बना होता.


उनकी बनाई गई योजना के तहत भारतीय सेना ने पहले नौशेरा और झंगर पर कब्ज़ा किया और फिर जोज़ीला, ड्रास और कारगिल से भी हमलावरों को पीछे धकेल दिया. केएम करियप्पा 1953 में सेवानिवृत्त हो गए थे और 94 साल की उम्र में साल 1993 में उनका निधन हुआ.


इस बार सेना दिवस पर क्या होगा


रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा, "राष्ट्र के लिए दक्षिण भारत के लोगों की वीरता, बलिदान और सेवाओं को पहचान देने के लिए इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का आयोजन बेंगलुरु में किया जा रहा है. साथ ही यह फ़ील्ड मार्शल केएम करियप्पा को श्रद्धांजलि है क्योंकि वो कर्नाटक से संबंध रखते हैं. 15 जनवरी को आर्मी चीफ़ जनरल मनोज पांडे सेना के अभियानों में जान गंवाने वाले जवानों को बेंगलुरु में श्रद्धांजलि देंगे और सेना दिवस परेड में उपस्थित होंगे.


इस परेड में भारतीय सेना की ताकत और क्षमता का प्रदर्शन होगा. साथ ही ये भी दिखाया जाएगा कि भारतीय सेना ने भविष्य के लिए तैयार होने और बदलती तकनीक के लिहाज से क्या प्रयास किए हैं. इसके अलावा मोटरसाइकिल पर कौशल प्रदर्शन, पैरा मोटर्स, कॉम्बैट फ़्री-फॉल जैसी रोमांच से भरी गतिविधियां भी होंगी. इस दौरान सेना प्रमुख सेना के जवानों और इकाइयों की वीरता और सराहनीय सेवा के लिए वीरता पुरस्कार और यूनिट प्रशस्ति पत्र भी देंगे.


सेना दिवस की थीम

हर बार सेना दिवस पर कोई न कोई थीम रखी जाती है. इस बार की थीम है 'रक्तदान करें- जीवन बचाएं'.इसके तहत दिसंबर से ही रक्तदान शिविर का आयोजन किया जा रहा है.महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, केरल, तेलंगाना, तमिलनाडु, गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में भारतीय सेना की टुकड़ियों ने 24 दिसंबर, 2022 को रक्तदान अभियान चलाया.


पीआईबी (पत्र सूचना कार्यालय) के मुताबिक इस दौरान 7500 यूनिट रक्त इकट्ठा किया गया और 75 हज़ार स्वयंसेवकों का एक डेटा बैंक भी तैयार किया गया.

बीते वर्ष सेना दिवस की थीम 'भविष्य के साथ प्रगति में' थी. जिसका उद्देश्य आधुनिक युद्ध में विशिष्ट और विनाशकारी तकनीक की बढ़ती भूमिका को रेखांकित करना था.साथ ही भारतीय सेना के सामने मौजूद चुनौतियों और उससे निपटने के प्रयासों को दर्शाना था.

Comments

Popular posts from this blog

राजस्थान कर्ज माफी लिस्ट 2022: ऑनलाइन (Kisan Karj Mafi List) जिलेवार सूची

  किसानों को कई बार फसल के लिए ऋण लेने की आवश्यकता पड़ जाती है। जिसके कारण उनको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को दूर करने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जाता है। राजस्थान सरकार द्वारा भी किसानों का ऋण माफ करने के लिए एक योजना का संचालन किया जाता है। जिसका नाम राजस्थान कर्ज माफी योजना है। इस योजना के माध्यम छोटे एवं सीमांत किसानों का ₹200000 तक का ऋण माफ कर दिया जाता है। वह सभी किसान जिन्होंने अपना ऋण माफ करने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था उनका नाम आधिकारिक वेबसाइट पर अपडेट कर दिया गया है। इस लेख के माध्यम से आपको Rajasthan karj mafi Yojana list में अपना नाम देखने की प्रक्रिया से अवगत कराया जाएगा। इसके अलावा आपको राजस्थान कर्ज माफी जिलेवार सूची से संबंधित अन्य जानकारी भी प्रदान की जाएगी। Rajasthan govt. Karj Mafi Yojana List 2022 राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी कर्ज माफ़ी लिस्ट में अपना नाम देखना चाहते है तो वह घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आसानी से देख सकते है इसके लिए किसानो को कही जाने की आवश्यकता नह

कर्ज माफी योजना : सहकारी बैंक के बाद अब कमर्शियल बैंकों से लिया ऋण होगा माफ

राजस्थान की गहलोत सरकार की ओर से राज्य के किसानों के कर्ज माफ करने की प्रक्रिया जारी है। सहकारी बैंकों के बाद अब गहलोत सरकार कर्मिशियल बैंकों के कर्ज माफ करने की तैयारी में जुट गई है। इसको लेकर कर्मिशियल बैंकों ने सरकार को रिपोर्ट सौंपी है। इस रिपोर्ट के आधार पर ऐसे किसानों को  कर्ज  माफी का लाभ देने के लिए सरकार द्वारा योजना अमल में लाई जाएगी। इससे प्रदेश के उन किसानों को फायदा होगा जिन्होंने कर्मिशियल बैंक से ऋण लिया है। हालांकि अभी राज्य सरकार की ओर से कर्मिशियल बैंकों के ऋण माफी को लेकर कोई घोषणा नहीं की गई है लेकिन ऐसी उम्मीद की जा रही है कि राज्य कृषि बजट का इस्तेमाल कर ऐसे किसानों का बकाया कर्ज माफ कर सकती है। बता दें कि इससे पहले सीएम गहलोत ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को ऑफर दिया था कि एनपीए हो चुके लोन का 10 प्रतिशत सरकार चुकाएगी, 90 प्रतिशत बैंक माफ करेंगे। लेकिन बैंकों ने इसमें दिलचस्पी नहीं दिखाई थी। इसलिए सरकार अब अपने स्तर पर कमर्शियल बैंकों की कर्जमाफी की कवायद में जुटी है। बता दें कि गहलोत सरकार ने सत्ता में आने से पहले किसानों के बकाया कर्ज माफ करने की घोष

BPL Ration Card 2022 राशन कार्ड कैसे बनाए BPL राशन कार्ड के नए नियम व पात्रता 2022

  राशन कार्ड कैसे बनाए BPL Ration Card के लिए आवेदन पत्र आवेदन के साथ लगाए जाने वाले दस्तावेज BPL लाभार्थी पात्रता आदि राशन कार्ड कई तरह के होते है जैसे – APL राशन कार्ड BPL, स्टेट BPL, अन्त्योदय राशन कार्ड आदि और इन अलग अलग राशन कार्ड से अलग अलग लाभ मिलता है जैसा की आपको पता होगा APL राशन कार्ड एक सामान्य राशन कार्ड में आता है जिसमे लाभार्थी को गेहू खाद्य सामग्री मिलती है bpl राशन से कई योजनाओ के लाभ में प्राथमिकता दी जाती है व आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के bpl कार्ड बनाए जाते है bpl कार्ड बनाने के लिए कई नियम लागु होते है इन नियमो व पात्रताओ को पूरा करने वाले bpl कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है यहा जाने bpl कार्ड नियम 2022 व आवेदन फॉर्म, पात्रता व दस्तावेज BPL Ration Card 2022 BPL card के नए नियम 2022 Eligibiliti Ration card-2022 राशन नियमो में हाल में बदलाव किए गए है ये बदलाव BPL राशन कार्ड आवेदन को लेकर किए गए है जहा बीपीएल राशन कार्ड बनाने के लिए नियम सामिल था घर में दो पहिया वाहन है वे BPL राशन कार्ड के लिए पात्र नहीं थे लेकिन अब सरकार ने हाल ही में इन नियमो को बदल दिया है ज