Skip to main content

राजस्थान में पाकिस्तानी वायरस का कहर:2100 गौवंश की मौत; जोधपुर सहित 10 जिलों के पशु चपेट में

 


पाकिस्तान के रास्ते भारत आई खतरनाक और वायरल बीमारी 'लंपी' से राजस्थान में गौवंश की मौतों का आंकड़ा 2100 हो गया है। जोधपुर, बीकानेर, जैसलमेर सहित 10 जिलों में यह संक्रामक बीमारी कहर बरपा रही है। 40 हजार से ज्यादा गौवंश इसकी चपेट में आ चुके हैं। 90 प्रतिशत गायें इस बीमारी का शिकार होकर दम तोड़ रही हैं। बैल, सांड़, भैसों में भी यह बीमारी फैल रही है। केवल लक्षणों के आधार पर इसका इलाज किया जा रहा है। भारत सरकार ने एडवाइजरी जारी कर बकरियों को होने वाली 'माता' से बचाव वाली ‘गोट पॉक्स’ वैक्सीन गौवंश को लगाने की सलाह दी है। केंद्र से साइंटिस्ट्स और पशुओं के डॉक्टर्स की टीम सोमवार को राजस्थान पहुंची है। जोधपुर और नागौर का दौरा कर हालात का जायजा लिया गया है। राजस्थान सरकार के एडिशनल डायरेक्टर, हेल्थ डॉ. एनएम सिंह ने दैनिक भास्कर को बताया कि टीम गंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर, जालोर, बाड़मेर, जैसलमेर, पाली, सिरोही भी जाएगी। डूंगरपुर, बांसवाड़ा, उदयपुर, राजसमंद और गुजरा बॉर्डर से सटे जिलों में अलर्ट जारी किया गया है। वहां निगरानी रखी जा रही है।


राजस्थान के साथ ही गुजरात में भी गाय-भैसों में 'लंपी' डिजीज तेजी से फैल रही है। गुजरात के 14 से ज्यादा जिलों में बीमारी फैलने की जानकारी है। गुजरात भी केंद्रीय टीम भेजी गई है। राजस्थान के मेडिकल एक्सपर्ट्स को अंदेशा है कि पाकिस्तान के पंजाब, सिंध और बहावलनगर के रास्ते होकर इसकी देश में फिर से एंट्री हुई है। इस बीमारी का कोई इफेक्टिव इलाज भी मौजूद नहीं है। यह सबसे बड़ी चिन्ता की बात है।


10 जिलों में फैली बीमारी, 2100 पशु मरे, 40 हजार चपेट में आए


एडिशनल डायरेक्टर, हेल्थ डॉ. एनएम सिंह ने कहा- 90 फीसदी गायों में यह बीमारी है। भैंस भी इसकी चपेट में आ रही हैं। मेडिसिन उपलब्ध करवाने के निर्देश सभी जिलों में दे दिए हैं। इमरजेंसी फंड में 1-1 लाख रुपए हर जिले को पहले ही दे दिया। अलग-अलग जिलों में डिमांड के हिसाब से अब फंड दिया जा रहा है। जैसलमेर में 5 लाख रुपए और दिए गए हैं। सभी प्रभावित जिलों में टीमें लगा दी हैं। पड़ोसी जिलों से भी टीमें भेजी जा रही हैं। नोडल अधिकारी और कलेक्टर्स लगातार मीटिंग कर रहे हैं। पशुपालन मंत्री और सचिव ने सभी जिला कलेक्टर से खुद बात की है। कलेक्टर्स को मॉनिटरिंग रखने को कहा है।


भारत सरकार से मांगा  फंड



डॉ एनएम सिंह ने बताया आज राजस्थान आई सेंट्रल टीम ने जोधपुर और नागौर का दौरा किया है। इंडियन वेटेरनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (IVRI) इज्जतनगर बरेली से साइंटिस्ट और दिल्ली से एनिमल हस्बेंडरी डिपार्टमेंट के डिप्टी कमिश्नर डॉ. सुरेंद्र पाल भी आए हैं। भारत सरकार से डिजीज कंट्रोल प्लान के तहत राजस्थान ने पैसा मांगा है। स्वास्थ्य विभाग ने प्लान बनाकर केन्द्र को भेज दिया है। 2-3 दिन में अप्रूव करने का केंद्र ने वादा किया है। इस बीमारी में फिलहाल पशुओं की डेथ रेट 2 से 3 परसेंट है। यह लोगों में नहीं फैलता है। इलाज के लिए पशुओं को एंटीबायोटिक्स के इंजेक्शन लगाए जा रहे हैं। सपोर्टिंव ट्रीटमेंट भी दे रहे हैं। बॉर्डर के पास होने के कारण वायरस पाकिस्तान से फैल सकता है। इन आशंकाओं से इनकार नहीं किया जा सकता। कई पशुओं का मूवमेंट रहता है। गाय-भैसों पर बैठने वाले पक्षी और मक्खियां भी बीमारी को बढ़ा रहे हैं।


राजस्थान में 18.25 करोड़ गौवंश, 11 करोड़ भैंसें 20वीं पशुगणना के अनुसार, देश में पशुधन 53.57 करोड़ है। इसमें गोधन (गाय-बैल) की आबादी 18.25 करोड़ है। भैंसों की आबादी 10.98 करोड़ है, जो कि दुनिया में पहले नंबर पर है। राजस्थान में 5.68 करोड़ पशुधन हैं। पशुधन के मामले में राजस्थान देश में यूपी के बाद दूसरे नम्बर पर है। राजस्थान में गौवंश 1.39 करोड़ है। गौवंश में राजस्थान छठे नम्बर पर है। 1.37 करोड़ भैंसों के साथ राजस्थान देश में दूसरे नम्बर पर है। प्रदेश में 79 लाख भेड़ के साथ चौथे नम्बर, 2 करोड़ 84 लाख बकरियों और 21 लाख 30 हजार ऊंट के साथ राजस्थान टॉप पर है।


पाकिस्तान कनेक्शन ?

पाकिस्तान के पंजाब, सिन्ध और बहावलनगर के रास्ते होकर इसकी देश में एंट्री मानी जा रही है। बहुत से पक्षी जानवरों की पीठ पर बैठते और उनकी प्राकृतिक तौर पर सफाई करते हैं। कुछ कीड़े खाते हैं। ऐसे पक्षी बॉर्डर पार भी करते हैं। मक्खियां और मच्छरों को भी सरहदें नहीं रोक पाती हैं।

Comments

Popular posts from this blog

राजस्थान कर्ज माफी लिस्ट 2022: ऑनलाइन (Kisan Karj Mafi List) जिलेवार सूची

  किसानों को कई बार फसल के लिए ऋण लेने की आवश्यकता पड़ जाती है। जिसके कारण उनको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को दूर करने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जाता है। राजस्थान सरकार द्वारा भी किसानों का ऋण माफ करने के लिए एक योजना का संचालन किया जाता है। जिसका नाम राजस्थान कर्ज माफी योजना है। इस योजना के माध्यम छोटे एवं सीमांत किसानों का ₹200000 तक का ऋण माफ कर दिया जाता है। वह सभी किसान जिन्होंने अपना ऋण माफ करने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था उनका नाम आधिकारिक वेबसाइट पर अपडेट कर दिया गया है। इस लेख के माध्यम से आपको Rajasthan karj mafi Yojana list में अपना नाम देखने की प्रक्रिया से अवगत कराया जाएगा। इसके अलावा आपको राजस्थान कर्ज माफी जिलेवार सूची से संबंधित अन्य जानकारी भी प्रदान की जाएगी। Rajasthan govt. Karj Mafi Yojana List 2022 राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी कर्ज माफ़ी लिस्ट में अपना नाम देखना चाहते है तो वह घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आसानी से देख सकते है इसके लिए किसानो को कही जाने की आवश्यकता नह

BPL Ration Card 2022 राशन कार्ड कैसे बनाए BPL राशन कार्ड के नए नियम व पात्रता 2022

  राशन कार्ड कैसे बनाए BPL Ration Card के लिए आवेदन पत्र आवेदन के साथ लगाए जाने वाले दस्तावेज BPL लाभार्थी पात्रता आदि राशन कार्ड कई तरह के होते है जैसे – APL राशन कार्ड BPL, स्टेट BPL, अन्त्योदय राशन कार्ड आदि और इन अलग अलग राशन कार्ड से अलग अलग लाभ मिलता है जैसा की आपको पता होगा APL राशन कार्ड एक सामान्य राशन कार्ड में आता है जिसमे लाभार्थी को गेहू खाद्य सामग्री मिलती है bpl राशन से कई योजनाओ के लाभ में प्राथमिकता दी जाती है व आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के bpl कार्ड बनाए जाते है bpl कार्ड बनाने के लिए कई नियम लागु होते है इन नियमो व पात्रताओ को पूरा करने वाले bpl कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है यहा जाने bpl कार्ड नियम 2022 व आवेदन फॉर्म, पात्रता व दस्तावेज BPL Ration Card 2022 BPL card के नए नियम 2022 Eligibiliti Ration card-2022 राशन नियमो में हाल में बदलाव किए गए है ये बदलाव BPL राशन कार्ड आवेदन को लेकर किए गए है जहा बीपीएल राशन कार्ड बनाने के लिए नियम सामिल था घर में दो पहिया वाहन है वे BPL राशन कार्ड के लिए पात्र नहीं थे लेकिन अब सरकार ने हाल ही में इन नियमो को बदल दिया है ज

Shramik Card ka Paisa Kaise Check Kare – श्रमिक कार्ड ₹1000 की किस्त कैसे चेक करें

Shramik card ki kist कैसे चेक करें – सरकार ने देश के पंजीकृत श्रमिकों के खातों में श्रमिक कार्ड की पहली किस्त का पैसा भेज दिया है लेकिन अभी भी बहुत सारे श्रमिकों को श्रमिक कार्ड की पहली किस्त का पैसा नहीं मिला है आइए जानते हैं Shramik Card ka Paisa Kaise Check Kare मोबाइल से। Shramik Card ka Paisa Kaise Check Kare उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा प्रदेश के असंगठित क्षेत्र में कार्यरत श्रमिकों को ₹500 प्रति माह की दर से 4 माह तक भरण-पोषण भत्ता योजना का लाभ प्रदान कर रही है जिसके अंतर्गत उत्तर प्रदेश के श्रमिकों को Shramik Card ki pahli kist यानी कि ( shram card 1st installment ) का पैसा श्रमिकों को बैंक खातों में दे दिया गया है। Shramik Card ka Paisa Kaise Check Kare श्रमिक कार्ड भरण पोषण योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए श्रमिक को श्रमिक कार्ड रजिस्ट्रेशन करना आवश्यक है यह रजिस्ट्रेशन आप अपने मोबाइल से भी कर सकते हैं इसके लिए आप के आधार कार्ड में आपका मोबाइल नंबर लिंक होना आवश्यक है। प्रदेश के जिन श्रमिकों को श्रमिक कार्ड की पहली किस्त प्राप्त