Skip to main content

सिंघु-टीकरी बॉर्डर पर जश्न:कानून वापसी पर झूमे किसान; कहीं अरदास, कहीं मिठाई तो कहीं नाच-गाने का नजारा

 


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 19 नवंबर को गुरुपर्व के मौके पर देशभर के किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। PM मोदी ने तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया है। यह ऐलान होते ही दिल्ली के सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर पिछले एक साल से डटे किसान खुशी से झूम उठे। जश्न का माहौल है। किसान एक-दूसरे के गले मिलकर खुशी जाहिर कर रहे हैं। किसानों ने इसे लंबे संघर्ष की जीत बताया। साथ ही बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा ने इमरजेंसी मीटिंग बुला ली है।


प्रधानमंत्री ने शुक्रवार सुबह राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा कि केन्द्र सरकार तीनों नए कृषि कानूनों को नेक नीयत के साथ लाई थी, लेकिन भरपूर प्रयास के बाद भी यह बात हम किसानों को समझा नहीं पाए। यह कहते ही PM मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का ऐलान कर दिया और टिकरी बॉर्डर पर जश्न शुरू हो गया।


आमतौर पर सुबह 9 बजे के आसपास दोनों बॉर्डर पर किसानों के मंच पर हल्की चहल-पहल होती है, लेकिन कृषि कानूनों के वापस लेने की बात सुनते ही बड़ी संख्या में किसान मंच की तरफ पहुंचने शुरू हो गए हैं।


किसानों में खुशी की लहर

सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर कई किलोमीटर एरिया में किसानों के टेंट लगे हुए हैं। हालांकि, पहले के मुकाबले किसानों की संख्या बहुत कम है। सर्दी का सीजन शुरू होते ही मंच 10 बजे के बाद ही सजता है, लेकिन शुक्रवार को कृषि कानूनों की वापसी के बाद किसानों ने अपने टेंट में ही जश्न मनाना शुरू कर दिया।


साथ ही किसान आंदोलन स्थल पर बनाए गए मुख्य मंच की तरफ बढ़ रहे हैं। कुछ देर बाद रोजाना की तरह मंच पर भाषण शुरू होगा, लेकिन अब सरकार को कोसने की बजाए कानूनों की वापसी के संघर्ष और खुशी का इजहार किया जाएगा।


एक साल चला किसानों का संघर्ष

पिछले साल नवंबर में ही पंजाब की धरती से तीनों नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का संघर्ष शुरू हुआ था। बाद में दिल्ली के सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर किसानों ने डेरा जमा लिया। एक साल से सर्दी-गर्मी के बीच किसान तीनों कृषि कानूनों को वापस कराने की मांग पर अड़े रहे।


पिछले 10 माह से किसानों और सरकार के बीच कानून वापसी को लेकर कोई बातचीत भी नहीं हुई, लेकिन शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान करके सबको चौंका दिया।


600 किसानों की चली गई जान

कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुए किसान आंदोलन में अभी तक 600 से ज्यादा किसानों की जान जा चुकी है। किसी की हार्टअटैक से, तो किसी की एक्सीडेंट में मौत हुई। इतना ही नहीं बहुत से किसानों ने आत्महत्या कर ली। आंदोलन लंबा खींचने की वजह से किसानों में भी सरकार के प्रति रोष बढ़ता जा रहा था।

इतना ही नहीं किसानों ने एक साल पूरा होने पर 26 नवंबर को आंदोलन को तेज करने के साथ ही 500 किसानों के साथ संसद कूच करने का ऐलान किया था, लेकिन शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री के कृषि कानूनों को वापस लेने की बात कहते ही किसानों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं है।

Popular posts from this blog

BPL Ration Card 2021 राशन कार्ड कैसे बनाए BPL राशन कार्ड के नए नियम व पात्रता 2021

  राशन कार्ड कैसे बनाए BPL Ration Card के लिए आवेदन पत्र आवेदन के साथ लगाए जाने वाले दस्तावेज BPL लाभार्थी पात्रता आदि राशन कार्ड कई तरह के होते है जैसे – APL राशन कार्ड BPL, स्टेट BPL, अन्त्योदय राशन कार्ड आदि और इन अलग अलग राशन कार्ड से अलग अलग लाभ मिलता है जैसा की आपको पता होगा APL राशन कार्ड एक सामान्य राशन कार्ड में आता है जिसमे लाभार्थी को गेहू खाद्य सामग्री मिलती है bpl राशन से कई योजनाओ के लाभ में प्राथमिकता दी जाती है व आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के bpl कार्ड बनाए जाते है bpl कार्ड बनाने के लिए कई नियम लागु होते है इन नियमो व पात्रताओ को पूरा करने वाले bpl कार्ड के लिए आवेदन कर सकते है यहा जाने bpl कार्ड नियम 2021 व आवेदन फॉर्म, पात्रता व दस्तावेज BPL Ration Card 2021 BPL card के नए नियम 2021 Eligibiliti Ration card-2021 राशन नियमो में हाल में बदलाव किए गए है ये बदलाव BPL राशन कार्ड आवेदन को लेकर किए गए है जहा बीपीएल राशन कार्ड बनाने के लिए नियम सामिल था घर में दो पहिया वाहन है वे BPL राशन कार्ड के लिए पात्र नहीं थे लेकिन अब सरकार ने हाल ही में इन नियमो को बदल दिया है ज

ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाएं | DL ऑनलाइन आवेदन,एप्लीकेशन फॉर्म 2021

  दोस्तों आजकल के समय में सभी के पास अपना व्हीकल होता है जिसको चलाने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस का होना बहुत जरूरी है| बहुत से लोग थोड़ा सा समय बचने के चक्कर में एजेंट की मदद लेते हैं और फालतू में ज्यादा पैसे लगा देते हैं |कई बार तो एजेंट फ्रॉड होते हैं और पैसा लेकर गायब हो जाते हैं । इस लेख में आपको ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की विधि विस्तारपूर्वक समझायेंगे | ऑनलाइन ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाएं 2021 | आवेदन फॉर्म सबसे पहले जान लेते हैं की ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए क्या पात्रता होनी चाहिए भारत का नागरिक जो मानसिक रुप से सही हो | आवेदक की उम्र 18 साल से ऊपर होनी चाहिए (बिना गियर वाले 2 व्हीलर के लिए सोलह साल की उम्र मान्य है बशर्ते उसके माता पिता की रजामंदी हो ) वाहन के प्रकार के अनुसार जानकारी नीचे टेबल से लें Type of Permanent Driving License Eligibility Criteria (मापदंड) Motorcycles बिना gear वाले (with a capacity of up to 50 cc) उस applicant की आयु at least 16 years old होनी चाहिए और यदि वो 18 वर्ष से भी कम है तो उसके parent या guardians की रजामंदी होना आवश्यक है Mot

राजस्थान कर्ज माफी लिस्ट 2022: ऑनलाइन (Kisan Karj Mafi List) जिलेवार सूची

  किसानों को कई बार फसल के लिए ऋण लेने की आवश्यकता पड़ जाती है। जिसके कारण उनको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को दूर करने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाओं का संचालन किया जाता है। राजस्थान सरकार द्वारा भी किसानों का ऋण माफ करने के लिए एक योजना का संचालन किया जाता है। जिसका नाम राजस्थान कर्ज माफी योजना है। इस योजना के माध्यम छोटे एवं सीमांत किसानों का ₹200000 तक का ऋण माफ कर दिया जाता है। वह सभी किसान जिन्होंने अपना ऋण माफ करने के लिए ऑनलाइन आवेदन किया था उनका नाम आधिकारिक वेबसाइट पर अपडेट कर दिया गया है। इस लेख के माध्यम से आपको Rajasthan karj mafi Yojana list में अपना नाम देखने की प्रक्रिया से अवगत कराया जाएगा। इसके अलावा आपको राजस्थान कर्ज माफी जिलेवार सूची से संबंधित अन्य जानकारी भी प्रदान की जाएगी। Rajasthan govt. Karj Mafi Yojana List 2022 राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी कर्ज माफ़ी लिस्ट में अपना नाम देखना चाहते है तो वह घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आसानी से देख सकते है इसके लिए किसानो को कही जाने की आवश्यकता नह